छत्तीसगढ़ में ढाई साल बाद मुख्यमंत्री बदले जाएंगे या भूपेश बघेल रहेंगे इस पद पर कायम !

दिल्ली गए छत्तीसगढ़ कांग्रेस के 35 विधायक, CM भूपेश भी जाएंगे, राहुल गांधी के साथ फिर बैठक होगी

छत्तीसगढ़ में ढाई साल बाद मुख्यमंत्री बदले जाएंगे या भूपेश बघेल इस पद पर कायम रहेंगे इस बात का फैसला आज या आने वाले 2-3 दिन में होगा यह तय हो गया है। छत्तीसगढ़ कांग्रेस के 35 मंत्री-विधायक दिल्ली पहुंच गए हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी सुबह दिल्ली जाएंगे। उनकी राहुल गांधी से मुलाकात तय है। सोनिया गांधी के साथ भी बैठक की संभावना जताई जा रही है।

रायपुर हवाई अड्‌डे पहुंचे भिलाई विधायक देवेंद्र यादव ने कहा, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में हम लोग छत्तीसगढ़ की जनता की सेवा कर रहे हैं। सरकार अच्छा काम कर रहे हैं। हम लोग आलाकमान से मिलकर यहां की स्थिति की जानकारी देने जा रहे हैं।

देवेंद्र यादव का दावा था, सभी विधायक एकजुट हैं और सभी दिल्ली जाएंगे। हालांकि, सरकार में शामिल सूत्रों का कहना है कि करीब 50 विधायकों को दिल्ली ले जाने की तैयारी है। इसमें कई विधायक शुक्रवार सुबह रवाना होंगे। मुख्यमंत्री शुक्रवार सुबह दिल्ली के लिए रवाना होंगे।

प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया ने कहा- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा है। शुक्रवार को उनकी मुलाकात होगी। पार्टी आलाकमान अथवा किसी भी नेता ने विधायकों को दिल्ली नहीं बुलाया है। प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है, विधायकों को दिल्ली नहीं बुलाया गया है। वे खुद भी विधायक हैं और पार्टी से इस संबंध में उन्हें कोई सूचना नहीं मिली है। मरकाम मरवाही के दौरे पर थे। शुक्रवार को कोटा और पंडरिया में उनका कार्यक्रम तय है।

उधर, सिंहदेव बोले – टीम का हर खिलाड़ी कप्तान बनने की सोचता है

दिल्ली में प्रेस से चर्चा में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा, “पार्टी ने 2.5 साल के फॉर्मूले पर कभी बात नहीं की। यह सिर्फ एक मीडिया कयास था कि छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री चुने जाने पर क्या ऐसा कोई फॉर्मूला बनता है। हाईकमान पार्टी में लोगों की भूमिका तय करता है और हम उन जिम्मेदारियों को निभाते हैं। सिंहदेव ने कहा, अगर कोई व्यक्ति किसी टीम में खेलता है तो क्या वह कप्तान बनने के बारे में नहीं सोचता? क्या आप नहीं बनना चाहेंगे? हर कोई उसके बारे में सोचता है लेकिन सवाल उसकी सोच का नहीं, उसकी क्षमताओं का है। हाईकमान लेता है फैसला।’ सिंहदेव के इस बयान से सत्ता संघर्ष की तस्वीर कुछ-कुछ साफ होने लगी है।

दिल्ली पहुंचे 2 सांसद, 3 मंत्री और 32 विधायक

करीब 35 लोग वहां पहुंच गए हैं। शेष विधायक-मंत्री शुक्रवार को जाएंगे। कांग्रेस के दो सांसद भी इसमें शामिल हैं। बताया जा रहा है, बृहस्पत सिंह, देवेंद्र यादव, कुलदीप जुनेजा, शिशुपाल शोरी, विनोद सेवनलाल चंद्राकर, विनय भगत, प्रकाश नायक, किश्मत लाल नंद, द्वारिकाधीश यादव, चंद्रदेव राय, यूडी मिंज, विनय जायसवाल, गुलाब कमरो, गुरुदयाल बंजारे, पुरुषोत्तम कंवर, कुंवर निषाद, चिंतामणि महाराज, भुनेश्वर बघेल, आशीष छाबड़ा, लक्ष्मी ध्रुव, रश्मि सिंह और शकुन्तला साहू दिल्ली रवाना हुए हैं। मंत्री अमरजीत भगत भी दिल्ली गए हैं।

दिग्विजय सिंह की भी भूमिका
बताया जा रहा है कि इस विवाद के समाधान में मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की भी बड़ी भूमिका हो सकती है। शीर्ष नेतृत्व उनसे इस संबंध में सलाह-मशवरा कर रहा है। छत्तीसगढ़ कांग्रेस नेतृत्व की मौजूदा पीढ़ी में अधिकतर लोग दिग्विजय सिंह के करीबी हैं। उनको प्रदेश की राजनीतिक समझ भी अधिक है। उनसे मिलकर समाधान की ओर ले जाने की कोशिश हो रही है।

दिल्ली में नेताओं का जमावड़ा
इस बीच दिल्ली में छत्तीसगढ़ के कांग्रेस नेताओं का जमावड़ा बढ़ता जा रहा है। गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू 18 अगस्त से ही दिल्ली में जमे हुए हैं। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत के भी दिल्ली पहुंचने की खबरें हैं। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव डहरिया भी दिल्ली पहुंच रहे हैं। संसदीय सचिव विकास उपाध्याय भी गुरुवार को दिल्ली पहुंच गए। राज्यसभा सांसद फूलोदेवी नेताम भी दिल्ली पहुंच रही हैं। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत 28 अगस्त को दिल्ली जा रहे हैं। हालांकि, सभी दिल्ली जाने की अलग-अलग वजह बता रहे हैं।

मुख्यमंत्री निवास पहुंचे भूपेश समर्थक विधायक
बताया जा रहा है, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल खेमे के दर्जन भर विधायक मुख्यमंत्री निवास पहुंचे हैं। विधायक चंद्रदेव राय के जन्मदिन के बहाने रायपुर सर्किट हाउस जुटे विधायक थोड़ी देर की चर्चा के बाद सीएम हाउस गए। इनमें बृहस्पत सिंह, चंद्रदेव राय, यूडी मिंज, विनय जायसवाल ,गुलाब कमरो, गुरुदयाल बंजारे, पुरुषोत्तम कंवर, कुंवर निषाद, चिंतामणि महाराज, भुनेश्वर बघेल, रश्मि सिंह आदि शामिल थे।

Leave a Reply