COVID 19: 100 किमी. पैदल चल कर घर पहुंचना चाहती थी 12 साल की मासूम, 11 किमी. पहले ही तोड़ दिया दम 12 year old died after walking 100 kms to her home due to lockdown nodss | bijapur – News in Hindi


COVID 19: 100 किमी. पैदल चल कर घर पहुंचना चाहती थी 12 साल की मासूम, 11 किमी. पहले ही तोड़ दिया दम

अंदोराम और मदकाम की जमालो इकलौती संतान थी. जमालो के परिजन जंगलों के उत्पादों पर जीविका के लिए निर्भर हैं और बड़ी ही मुश्किल से इन लोगों का गुजारा हो पाता है. (संकेतिक फोटो)

जमालो तीन दिन से 13 अन्य लोगों के साथ लगातार पैदल चल रही थी. इनमें तीन बच्चे और आठ महिलाएं भी थीं. इस दौरान इन लोगों ने करीब 100 किमी. की यात्रा पैदल की पूरी की, लेकिन जमालो अपनी मंजिल तक नहीं पहुंच सकी.

बीजापुर. छत्तीसगढ़ के बीजापुर में एक दिल दहलाने वाली घटना हुई. 12 साल की मासूम जमालो मदकाम करीब दो महीने पहले ही अपने कुछ रिश्तेदारों के साथ मिर्ची के खेतों में काम करने तेलंगाना गई थी. अब पूरे देश में लॉकडाउन (Lockdown) होने के बाद वह अपने घर लौट रही थी. रविवार को घर लौटने की कोशिश के बीच ही मासूम ने घर से महज 11 किमी. पहले दम तोड़ दिया. जमालो तीन दिन से 13 अन्य लोगों के साथ लगातार पैदल चल रही थी. इनमें तीन बच्चे और आठ महिलाएं भी थीं. इस दौरान इन लोगों ने करीब 100 किमी. की यात्रा पैदल की पूरी की, लेकिन जमालो अपनी मंजिल तक नहीं पहुंच सकी. अधिकारियों के अनुसार जमालो की मौत इलेक्ट्रोलाइट इंबैलेंस और अत्याधिक थकान के चलते हुई.

इकलौती संतान थी जमालो
इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार अंदोराम और मदकाम की जमालो इकलौती संतान थी. जमालो के परिजन जंगलों के उत्पादों पर जीविका के लिए निर्भर हैं और बड़ी ही मुश्किल से इन लोगों का गुजारा हो पाता है. ऐसा पहली बार हुआ था जब जमालो अपने घर से बाहर निकली हो. अंदोराम ने बताया कि वो गांव की ही कुछ महिलाओं के साथ इस साल तेलंगाना स्थित मिर्ची के खेतों में काम करने के लिए गई थी. अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जमालो के परिजन को एक लाख रुपये देने की घोषणा की है.

16 अप्रैल को छोड़ा था तेलंगानाअंदोराम ने बताया के उसने जमालो के बारे में आखिरी बार तब सुना था जब उसने अन्य लोगों के साथ तेलंगाना का पेरुरु गांव छोड़ा था. कोरोना संक्रमण के चलते बढ़ाए गए लॉकडाउन के बाद उन्हें वहां पर काम मिलने की उम्मीद नहीं थी जिसके बाद वे लोग छत्तीसगढ़ में अपने गांव के लिए रवाना हो गए थे. लगातार चलते चलते आखिर जमालो ने 18 अप्रैल को दम तोड़ दिया.

बीजापुर की सीमा पर तोड़ा दम
जानकारी के अनुसार जमालो ने 18 अप्रैल की सुबह 8 बजे दम तोड़ा. इस दौरान ये सभी लोग बीजापुर जिले की सीमा पर पहुंच गए थे. लेकिन ये लोग उस समय जमालो के परिजन को नहीं बता सके क्योंकि इनके पास एक ही मोबाइल था और उसकी भी बैट्री खत्म हो गई थी. बाद में जब ये लोग भांदरपाल गांव पहुंचे तो जमालो के परिजन को इस बारे में सूचित किया गया. इसके बाद भांदरपाल के लोगों ने भी कोरोना संक्रमण की आशंका में पुलिस को फोन किया.

12 लोगों को किया क्वारेंटाइन
मामले की जानकारी मिलते ही मेडिकल टीम भांदरपाल गांव पहुंची लेकिन इस दौरान उन्हें ये लोग नहीं मिले. बाद में गांव के बाहर इन लोगों को टीम ने रोक लिया. जमालो के शव को अस्पताल भिजवाया गया और बाकि सभी लोगों को क्वारेंटाइन सेंटर में भेजा गया. रविवार शाम को जमालो के परिजन उसका शव लेने पहुंचे. जमालो की मौत के एक दिन बाद उसकी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट आई, जो कि नेगेटिव निकली.

ये भी पढ़ेंः Lockdown के चलते भूपेश बघेल सरकार 17 के बजाए 30 रुपये किलो महुआ फूल खरीदेगी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बीजापुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: April 21, 2020, 10:07 AM IST





Source link

Leave a Reply